उत्तरकाशी पुलिस ने 18 लाख की ऑनलाइन ठगी का किया खुलासा, चार लोगों को लिया अरेस्ट

उत्तरकाशी : जिला पुलिस टीम ने बीमा के नाम पर धोखाधड़ी करने वाले एक गिरोह को गिरफ्तार किया गया है। थाना कोतवाली और स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) की संयुक्त टीम ने एक महिला से बीमा पॉलिसी के नाम पर 18 लाख की धोखाधड़ी करने वाले गैंग में शामिल चार अपराधियों को नोएडा यूपी से गिरफ्तार किया है। उनके पास से 12 मोबाइल, 20 सिम कार्ड, एक एटीएम कार्ड, चार स्टांप और एक कार बरामद हुई है। इस मामले में पुलिस उपमहानिरीक्षक गढ़वाल परिक्षेत्र नीरू गर्ग ने उत्तरकाशी पुलिस टीम के कार्य की सराहना की और टीम को पांच हजार रुपये पुरस्कार की घोषणा की गई।
पुलिस ने चारों आरोपियों के खिलाफ धारा 420 के तहत मुकदमा दर्ज कर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है। पुलिस ने बताया कि यह लोग इंश्योरेंस के नाम पर कॉल सेंटर से कॉल कर लोगों के पैसे अपने एकाउंट में डलवाकर उनसे ठगी करते थे। इस गिरोह का मुख्य आरोपी के खिलाफ महेशनगर थाने जयपुर में भी धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज है।
जानकारी के अनुसार, कोतवाली उत्तरकाशी में गत 3 जून को को मानसौड़ बडेथी निवासी शिक्षिका लक्ष्मी चौधरी ने कोतवाली पुलिस में धोखाधड़ी से संबंधित तहरीर दी। कोतवाली थानाध्यक्ष विनोद थपलियाल ने मुकदमा दर्ज किया। लक्ष्मी चौधरी ने बताया कि वर्ष 2018 में उन्होंने एक जीवन बीमा पॉलिसी खरीदी थी। कुछ समय बाद उन्होंने इसे बंद कर दिया। जिसके बाद किसी अज्ञात व्यक्ति ने उसे वर्ष 2020 में फोन कर बताया कि उसके नाम से दो और बीमा खोल दी गई है। वर्ष 2020 से 2021 तक लगातार अलग-अलग नंबरों से फोन आए। अलग-अलग नाम बताकर 18 लाख 65 हजार 895 रुपये दो अकाउंट में डलवाए।
इस पर थाना कोतवाली में आईपीसी की धारा 420 में मुकदमा दर्ज कर मामले के खुलासे के लिए कोतवाली पुलिस और एसओजी की संयुक्त टीम का गठित की गई। पुलिस अधीक्षक मणिकांत मिश्रा ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए इसकी जांच कोतवाली थानाध्यक्ष विनोद थपलियाल को दी तथा आरोपितों की पहचान कर गिरफ्तार करने के निर्देश दिए।
जिसके बाद पुलिस टीम ने जांच कर कॉल डिटेल और लोकेशन के आधार पर दिल्ली, हरियाणा व उत्तर-प्रदेश के अलग-अलग स्थानों पर दबिश दी। सोमवार को पुलिस ने नोएडा से मुकुल सुखीजा निवासी गुरुग्राम हरियाणा, रिंकू राणा निवासी गाजियाबाद, टीपू सुल्तान और चांद मोहम्मद निवासी पूर्वी दिल्ली को गिरफ्तार किया है। 
गिरफ्तार आरोपियों में से मुख्य आरोपी मुकुल सुखीजा की बट इंटरनेशनल नाम से कंपनी है। आरोपी बीमा कंपनी के दलाल के रूप में काम करते हैं। पहले ये आम लोगों के साथ बीमा पॉलिसी के नाम पर बात करते हैं। फिर पॉलिसी में इनकम टैक्स और जीएसटी के नाम पर लोगों से ठगी करते थे। टीपू सुल्तान अपना नाम अमन वर्मा और चांद मोहम्मद राहुल बताता था।

0 Comments

Leave a Comment