चीन की तरह टिहरी झील के ऊपर बनेगा कांच का पुल, शुरू हुआ डीपीआर बनना

टिहरी : चीन के हुनान प्रांत में स्थित तियानमेन का ग्लास ब्रिज दुनिया भर में प्रसिद्ध है। यह ग्लास ब्रिज 1410 फीट लंबा और छह मीटर चौड़ा है। अब इस कांच के पुल के तर्ज पर टिहरी झील के ऊपर भी ग्लास ब्रिज के निर्माण योजना पर कार्य जल्द ही शुरू होने वाला है। इसके लिए डीपीआर बननी शुरू हो गई है। इसके अलावा झील के बीच टापू में भगवान शिव की मूर्ति व हाट बजार और टिपरी रोपवे का आधुनिकीकरण भी केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी टिहरी झील समग्र विकास योजना के तहत किया जाएगा।
ये ब्रिज बनता है तो टिहरी को पर्यटन में नई ऊंचाइयां मिलेंगी। इससे राज्य का राजस्व भी बढ़ेगा। इस योजना के अंतर्गत टिपरी से मदन नेगी तक पर्यटक रोपवे से जायेगे और मदननेगी से धारकोट के बीच टिहरी झील के ऊपर तकरीबन 800 मीटर लम्बे कांच के पुल का निर्माण होगा।
जिला पर्यटन अधिकारी सोबत सिंह राणा ने जानकारी देते हुए बताया कि टिहरी झील में तकरीबन 800 करोड़ की लागत से विकास कार्य होने तय हुए हैं और इसी के तहत मदन नेगी से धारकोट के बीच 800 मीटर लंबे ग्लास ब्रिज का निर्माण होगा। धारकोट पहुंचने के बाद 6 किलोमीटर पैदल ट्रैक से सीधे प्रतापनगर महल तक पहुंचा जाएगा।
इवा आशीष श्रीवास्तव (जिलाधिकारी, टिहरी गढ़वाल) का कहना है कि टिहरी झील के ऊपर ग्लास ब्रिज निर्माण का प्रस्ताव है। कार्यदायी संस्था प्रोजेक्ट की डीपीआर तैयार कर रही है। इसमें दो माह का वक्त लगेगा और फिर आगे की प्रक्रिया शुरू होगी।

योजना के तहत होने वाले कार्य :
मदन नेगी से धारकोट के बीच ग्लास ब्रिज का निर्माण
टिपरी रोपवे का सुंदरीकरण व आधुनिकीकरण
सांदणा के पास टापू में भगवान शिव की मूर्ति स्थापना
कोटी कालोनी में हाट बजार का निर्माण
कोटी में कैंपिंग साइट का विकास
कोटी में लाइट एंड लेजर शो
अत्याधुनिक थियेटर का निर्माण
नए बोटिंग प्वाइंट का निर्माण

0 Comments

Leave a Comment